0
आग बुझने लगी है दरिया पार
दर्द कर देगा आज बेड़ा पार

इश्क़ में मर के जी गये हम तो
मौत से वर्ना किसने पाया पार

यही नक़्शा है उस तरफ़ यारो
अपनी सरहद कभी न करना पार

तू भी आराइशों से दुनिया की
फेर ले आँख और हो जा पार

अपने ही ख़ून में नहा लिये हम
आग का दरिया कौन करता पार

उससे मिलकर निजात पाना है
यार बसता है मेरा गंगा पार - मुजफ्फर हनफ़ी

Roman

Aag bujhne lagi hai dariya paar
dard kar dega aaj beda paar

ishq me mar ke ji gaye ham to
mout se warna kisne paya paar

yahi naqsha hai us taraf yaaro
apni sarhad kabhi n karna paar

tu bhi aaraisho se duniya ki
fer le aankh aur ho ja paar

apne hi khoon me naha liye ham
aag ka dariya koun karta paar

usse milkar nijaat pana hai
yaar basta hai mera ganga paar- Muzffar Hanfi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top