0
दूर से आये थे साकी सुनके मयखाने को हम
बस तरसते ही चले अफ़सोस पैमाने को हम

मय भी है मीना भी है, सागर भी है साकी नहीं
दिल में आता है लगा दे, आग मयखाने को हम

ताक-ए-अबरू में सनम के क्या खुदाई रह गई
अब तो पूजेंगे उसी काफ़िर के बुतखाने को हम

हमको फसना था, कफ़ज़ में, क्या गिला सय्याद का
बस तरसते ही रहे आब, और दाने को हम

बाग़ में लगता नहीं, सहरा में घबराता है दिल
अब कहा ले जाके बैठाये ऐसे दीवाने को हम

क्या हुई तक़्सीर हमसे, तू बता दे नज़ीर
ताकि शादी मर्ग समझे, ऐसे मर जाने को हम - नजीर अकबराबादी 
मायने
कफ़ज़ =पिंजरा, सय्याद =शिकारी , आब=पानी, तक़्सीर =गलती

Roman

door se aaye the saki sunke maykhane ko ham
bas tarsate hi chale afsos paimane ko ham

may bhi hai meena bhi hai, saagar bhi saki nahi
dil me aata hai laga de, aag maykhane ko ham

taak-e-aabru me sanam ke kya khudai rah gayi
ab to pujenge usi kafir ke butkhane ko ham

hamko fasna tha, kafaz me, kya gila syyad ka
bas tarsate hi rahe aab, aur daane ko ham

baad me lagta nahi, sahra me ghbrata hai dil
ab kaha le jake baithaye aise deewane ko ham

kya hui taqseer hamse, tu bata de Najeer
taaki shadi marg samjhe, aise mar jane ko ham - Najeer/Nazeer Akbrabadi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top