0
गुस्सा बेगाना-वार होना था
बस यही तुझसे यार होना था

क्यों न होते अज़ीज़ गैर तुम्हे
मेरी किस्मत में ख़्वार होना था

मुझे जन्नत में वह सनम न मिला
हश्र और एक बार होना था

खाक होता न मै तो क्या करता
उसके दर का गुबार होना था

हरजारगर्दी से हम ज़लील हुए
चर्ख का एतबार होना था

सब्र कर सब्र, हो चूका जो कुछ
ऐ दिले-बेकरार होना था

रात-दिन बादा-ओ-सनम 'मोमिन'
कुछ तो परहेज़गार होना था - मोमिन खां मोमिन
मायने
बेगाना-वार=अनजानो की तरह, अज़ीज़=प्यारा, ख्वार=अपमान, गुबार=गर्द, हरजारगर्दी=घुमक्कड, चर्ख=समान/आसमान, बादा-ओ-सनम=प्रिय और मदिरा

Roman

gussa begana-war hona tha
bas yahi tujhse yaar hona tha

kyo n hote aziz gair tumhe
meri kismat me khwar hona tha

mujhe jannat me wah sanam n mila
hashr aur ek baar hona tha

khak hota n mai to kya karta
uske dar ka gubar hona tha

harzaargardi se ham jalil hue
charkh ka aetbaar hona tha

sabr kar sabr, ho chuka jo kuch
ae dile-bekrar hona tha

raat-din bada-o-sanam 'Momin'
kuch to parhejgaar hona tha - Momin Khaan Momin
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top