0
वतन की आग बुझाओ .... वतन की आग बुझाओ
छोड़ के नफरत मिलजुल कर सब होली ईद मनाओ

अबुल कलाम आज़ाद की ये सौगात ना जलने देंगे
मुंबई हो के दिल्ली या गुजरात ना जलने देंगें

बात वतन की आ जाये तो भगत सिंह बन जाओ
वतन की आग बुझाओ .... वतन की आग बुझाओ

बिस्मिल जी के आंचता की आग दहकती होगी
सच है अशफाकुल्ला की रूह तड़पती होगी

अमर शहीदों के गुलशन पर गोले मत बरसाओ
वतन की आग बुझाओ .... वतन की आग बुझाओ

बारूदों के ढेर पे अपना देश अगर जलता है
जलने दो बस काम सियासत का अपना चलता है

ऐसे नेताओ को पहले सरहद पर पहुचाओ
वतन की आग बुझाओ .... वतन की आग बुझाओ - अल्लामा इकबाल

Roman

Watan ki aag bujhao....Watan ki aag bujhao
chhod ke nafrat miljul kar sab holi id manao

abul kalam azad ki ye sougat na jalne denge
Mumbai ho ke Dilli ya Gujrat na jalne denge

baat watan ki aa jaye to bhagat singh ban jao
Watan ki aag bujhao....Watan ki aag bujhao

bismil ji ke aanchta ki aag dahkati hogi
sach hai ashfaqulla ki ruh tadpati hogi

amar shahido ke gulshan par gole mat barsao
Watan ki aag bujhao....Watan ki aag bujhao

barudo ke dher pe apna desh agar jalta hai
jalne do bas kaa siyasat ka apna chalta hai

aise netao ko pahle sarhad par pahuchao
Watan ki aag bujhao....Watan ki aag bujhao - Allama Iqbal
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top