0
जाँ निसार अख्तर साहब का जन्मदिवस ८ फ़रवरी को है इस उपलक्ष्य में उनकी एक ग़ज़ल पेश है
कौन कहता है तुझे मैंने भुला रखा है
तेरी यादों को कलेजे से लगा रखा है

लब पे आहें भी नहीं आँख में आँसू भी नहीं
दिल ने हर राज़ मुहब्बत का छुपा रखा है

तूने जो दिल के अंधेरे में जलाया था कभी
वो दिया आज भी सीने में जला रखा है

देख जा आ के महकते हुये ज़ख़्मों की बहार
मैंने अब तक तेरे गुलशन को सजा रखा है - जाँ निसार अख्तर

चलिए इसे सुनते है


Roman

koun kahta hai tujhe maine bhula rakha hai
teri yaado ko kaleje se laga rakha hai

lab pe aahe bhi nahi aankh me aansu bhi nahi
dil ne har raaj muhbbat ka chhupa rakha hai

tune jo dil ke andhere me jalaya tha kabhi
wo diya aaj bhi seene me jala rakha hai

dekh jaa aa ke mahkate hue jakhmo ki bahaar
maine ab tak tere gulshan ko saja rakha hai - Jaan Nisar Akhatar
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top