0
हर एक धडकन अजब आहट
परिंदों जैसी घबराहट

मिरे लहजे में शीरीनी
मिरी आँखों में कड़वाहट

मिरी पहचान है शायद
मिरे हिस्से कि उकताहट

सिमटता शेर है हैयत में
बदन कि सी यह गदराहट

मुसिर मै, फन मिरा जिद पर
यह बालकहट यह तिरयाहट

उजाले डस न ले इस को
बचा रक्खो यह धुंधलाहट

लहू की सीढियों पर है
कोई बढती हुई आहट - अब्दुल अहद साज़

मायने
शीरीनी=मिठास, हैयत=फॉर्म, मुसिर=जिद पर

Roman

har ek dhadkan ajab aahat
parindo jaisi ghabrahat

mire lahje me shirini
miri aankho me kadwahat

miri pahchan hai shayad
mire hisse ki uktahat

simtta sher hai haiyat me
badan ki si yah gadrahat

musir mai, fan mira jid par
yah balakhat yah tiryahat

ujale das n le is ko
bacha rakkho yah dhundhlahat

lahu ki sidhiyo par hai
koi badhti hui aahat- Abdul Ahad Saaz
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top