0
हर घडी क़यामत थी, ये न पूछ कब गुजरी
बस यही गनीमत है, तेरे बाद शब् गुजरी

कुंजे-गम में एक गुल भी खिल न सका पूरा
इस बला की तेजी से सरसरे-तरब गुजरी

तेरे गम की खुशबु से जिस्मो-जा महक उट्ठे
सांस की हवा जब भी छू के मेरे लब गुजरी

एक साथ रहकर भी दूर ही रहे हम-तुम
धुप और छाँव की दोस्ती अजब गुजरी

जाने क्या हुआ हमको अब के फस्ले-गुल में भी
बर्गे-दिल नहीं लरज़ा, तेरी याद जब गुजरी

बेकरार, बेकल है जां सुकून के सहरा में
आज तक न देखी थी ये घडी जो अब गुजरी

बादे-तर्के-उल्फत भी यूँ तो हम जिए, लेकिन
वक्त बेतरह बीता, उम्र बेसबब गुजरी

किस तरह तरशोगे, तुहमते-हवस हम पर
जिंदगी हमारी तो सारी बेतलब गुजरी- ज़हूर नज़र
मायने
सरसरे-तरब=आनद की हवा, फस्ले-गुल=वसंत ऋतू, बर्गे-दिल=दिल का पत्ता, बादे-तर्के-उल्फत=प्रेम विच्छेदन के पश्चात, तुहमते-हवस=लोलुपता का आरोप

Har ghadi kayamat thi, ye n puchh kab gujri,
Bas yahi ganimat hai, tere baad shab gujri

Kunje gam mein ek gul bhu khil n saka pura
Is bala ki taiji se sarsare-tarab gujri

Tere gam ki khushbu se jismo-jaan mahak uththe
Saans ki hawa jab bhi chhu ke mere lab gujri

Ek saath rahkar bhi door hi rahe ham-tum
Dhoop aur chhanv ki dosti ajab gujri

Jaane kya hua hamko ab ke fasle-gul mein bhi
Barge-dil nahi larja, teri yaad jab gujri

Bekrar, bekal hai jaan sukun ke sahra mein
Aaj tak n dekhi th ye ghadi jo ab gujri

Baade-tarke-ulfat bhu yun to ham jiye, lekin
Waqt betarah beeta, umr besabab gujri

Kis tarah tarashoge, tuhmate-hawas ham par
Jindgi hamari to saari bematlab gujri – Zahur Nazar

Post a Comment Blogger

 
Top