0
यार आता नजर नहीं आता
दर्द जाता नजर नहीं आता

झोली फैला चुके मोहब्बत की
कोई दाता नज़र नहीं आता

अब तो कोई भी कु-ए-उल्फत में
आता नज़र नहीं आता

लोग कहते है गीत है जीवन
कोई गाता नज़र नहीं आता

अब यकीन हो चला के उनका हाथ
हाथ आता नज़र नहीं आता - कमर जलालाबादी

Roman

Yaar aata nazar nahi aata
Dard jaata nazar nahi aata

Jholi phaila chuke Mohabbat ki
Koyi Daata nazar nahi aata

Ab to koyi bhi kuve-ulfat me
Aata jaata nazar nahi aata

Log kahte hain geet hai Jeewan
Koyi gaata nazar nahi aata

Ab yakeen ho chala ke unka haath
Haath aata nazar nahi aata - Qamar Jalalabadi

Post a Comment Blogger

 
Top