1
दोनों ही पक्ष आये है तैयारियों के साथ
कुछ गर्दनो के साथ है कुछ आरियो के साथ

बोया न कुछ भी, फसल मगर ढूंढते है लोग
कैसा मजाक चल रहा है क्यारियों के साथ

तुम ही बताओ कैसे उसे मै चुरा के लाऊ
पानी की वो जो बूंद है चिंगारियो के साथ

सेहत हमारी ठीक भी रहे तो क्यों रहे
बैठे हो जब हकीम ही बीमारियों के साथ

कुछ रोज से मै देख रहा हू कि हर सुबह
उठती है एक कराह भी किलकारियो के साथ - कुंवर बैचैन

Roman

Dono hi paksh aaye hai taiyariyo ke saath
kuch gardano ke saath hai kuch aariyo ke saath

boya n kuch bhi, fasal magar dhundhte hai log
kaisa majaak chal rahaa hai kyariyo ke saath

tum hi bataao kaise use mai chura ke laau
paani ki wo jo bund hai chingariyo ke saath

sehat hamaari thik bhi rhae to kyo rahe
baithe ho jab hakeem hi bimariyo ke saath

kuch roz se mai dekh raha hu ki har subah
uthti hai ek karaah bhi kilkariyo ke saath- Kunwar Baichain

Post a Comment Blogger

 
Top