0
संग में नहर बनाने का हुनर मेरा है
राह सबकी है मगर अज्मे सफर मेरा है

सारे फलदार दरख्तों  पे तसर्रुफ उसका
जिसमे पत्ते भी नहीं है वह शज़र मेरा है

दर व दीवार  पे सब्जे की हुकूमत है यहाँ
होगा ग़ालिब का कभी अब तो यह घर मेरा है

तू मुझे पाके भी न खुश था यह किस्मत तेरी
मै तुझे खो के भी खुश यह जिगर मेरा है - अनवर जलालपुरी

मायने
अज्मे सफर = करने का संकल्प, तसर्रुफ=अधिकार, शज़र=पेड

Roman
sang me nahar banaane ka hunar mera hai
raah sabki hai magar ajme safar mera hai

saare faldaar darkhto pe tasrruf uska
jisme patte bhi nahi hai wah shazar mera hai

dar w deewar pe sabje ki hukumat hai yahaa
hoga ghalib ka kabhi ab to yah ghar mera hai

tu mujhe paake bhi khush n tha yah kismat teri
mai tujhe kho ke bhi khush hu yah jigar mera hai- Anwar Jalaalpuri

Post a Comment Blogger

 
Top