0
ग़म का ख़ज़ाना तेरा भी है, मेरा भी
ये नज़राना तेरा भी है, मेरा भी

अपने ग़म को गीत बना कर गा लेना
राग पुराना तेरा भी है, मेरा भी

मैं तुझको और तू मुझको समझाएं क्या
दिल दीवाना तेरा भी है, मेरा भी

शहर में गलियों गलियों जिसका चर्चा है
वो अफ़साना तेरा भी है, मेरा भी

मैख़ाने की बात न कर वाइज़ मुझ से
आना जाना तेरा भी है, मेरा भी - शाहिद कबीर

Roman

Gham ka khazana tera bhi hai, mera bhi
ye nazraana tera bhi hai, mera bhi

apne gam ko geet bana kar gaa lena
raag purana tera bhi hai, mera bhi

tu mujhko aur main tujhko samjhaaoon kya
dil deewana tera bhi hai, mera bhi

shehar mein galiyon galiyon jiska charcha hai
wo afsaana tera bhi hai, mera bhi

maikhaane kee baat na kar waaiz mujhse
aana-jaana tera bhi hai, mera bhi- Shahid Kabir

Post a Comment Blogger

 
Top