0
niklo n benaqab www.jakhira.com
बेपर्दा नज़र आयी कल जो चन्द बीबियां
अकबर ज़मीं में गैरत-ए-क़ौमी से गड़ गया

पूछा जो मैने आप का पर्दा वो क्या हुआ
कहने लगीं के अक़्ल पे मर्दों के पड़ गया

निकलो न बेनकाब, ज़माना खराब है
और इसपे ये शबाब, ज़माना खराब है

सब कुछ हमें खबर है नसीहत न दीजिए
क्या होंगे हम खराब, जमाना खराब है

मतलब छुपा हुआ है यहाँ हर सवाल पर
दो सोचकर जवाब, ज़माना खराब है

'राशिद' तुम आ गए हो ना आखिर फ़रेब में
कहते न थे जनाब, ज़माना खराब है- नून मीम राशिद

मायने
फ़रेब=धोखा, छलावा

Roman

Beparda najar aayi kal jo chand bibiya
akbar zamin me gairat-e-koumi se gadh gaya

puchha jo maine aap ka parda wo kya hua
kahne lagi ke akl pe mardo ke padh gaya

Niklo na Benqab jamana kharab hai
aur ispe ye shabab, jamana kharab hai

sab kuch hame khabar hai, nasihat n dijiye
kya honge ham kharab, jamana kharab hai

matlab chhupa hua hai yahaa har sawal par
do sochkar jawab, jamana kharab hai

raashid tum aa gaye ho na aakhir fareb me
kahte n the janaab, jamana kharab hai- Noon Meem Raashid
#Jakhira
https://www.youtube.com/watch?v=u9NI_dhQ3sg

Post a Comment Blogger

 
Top