1
यु तेरी रहगुज़र से दीवानावार गुजरे
काँधे पे रख के अपना मज़ार गुजरे

बैठे है रास्ते में बयाबान-ए-दिल सजाकर
शायद इसी तरफ से एक दिन बहार गुजरे

दार-ओ-रसन से दिल तक, सब रास्ते अधूरे
जो एक बार गुजरे, वो बार-बार गुजरे

बहती हुई यह नदिया, घुलते हुए किनारे
कोई तो पार उतरे, कोई तो पार गुजरे

मस्जिद के जेर-ए-साया, बैठे जो थक-थकाकर
बोला हर एक मीनार, 'तुझ से हज़ार गुजरे'

कुर्बान इस नज़र पे, मरियम की सादगी भी
साये से जिस नज़र के, सौ करदिगार गुजरे

अच्छे लगे है दिल को तेरे मिले भी लेकिन
तू दिल ही हार गुजरा, हम जान हार गुजरे

मेरी तरह संभाले कोई जो दर्द जानू
एक बार दिल से होकर परवरदिगार गुजरे - मीना कुमारी 'नाज़'

मायने
दार-ओ-रसन से=फासी के तख्ते से, ज़ेर-ए-साया=छाया में

Roman

yun teri rahgujar se deewanagaar gujre
kaandhe pe rakh ke apna majaar gujre

baithe hai raste me bayaban-e-dil sajakar
shayad isi taraf se ek din bahar gujre

daar-o-rasan se dil tak, sab raste adhure
jo ek baar gujre, wo baar-baar gujre

bahti hui nadiya, ghulte hue kinare
koi to paar utre, koi to paar gujre

masjid ke zer-e-saya, baithe jo thak-thakakar
bola har ek meenar, tujh se hajar gujre

kurbaan is najar pe, mariyam ki saadgi bhi
saye se jis najar ke, sou kardigar gujre

achche lage hai dil ko tere mile bhi lekin
tu dil hi haar gujra, ham jaan haar gujre

meri tarah sambhale koi to dard jaanu
ek baar dil se hokar parvardigar gujre - Meena Kumar "Naaz"

Post a Comment Blogger

  1. बहुत खूबसूरत गजल .....

    ReplyDelete

 
Top