2
parakhna mat parakhne se koi apna nahi rahta
परखना मत परखने से कोई अपना नहीं रहता
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता

बड़े लोगो से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहा दरिया समुन्दर से मिला दरिया नहीं रहता

हजारो शेर मेरे सो गए कागज़ की कब्रों में
अजब माँ हु कोई बच्चा मेरा जिंदा नहीं रहता

मुहब्बत एक खुशबु है हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तन्हाई में तन्हा नहीं रहता

तुम्हारा शहर तो बिलकुल नए अंदाज वाला है
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता- बशीर बद्र

Roman

parakhna mat parakhne se koi apna nahi rahta
kisi bhi aaine me der tak chehra nahi rahta

bade logo se milne me hamesha fasla rakhna
jaha dariya samndar se mila dariya nahi rahta

hajaro sher mere so gayae kagaz ki kabro me
azab maa hu koi bachcha mera zinda nahi rahta

muhbbat ek khushboo hai hamesha sath chalati hai
koi insan tanhai me tanha nahi rahta

umhara shahar to bilkul naye andaj wala hai
hamare shahar me bhi ab koi hum sa nahi rahta - Bashir Badr

Post a Comment Blogger

  1. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल। दो-तीन बार सुन चुका हूं।

    ReplyDelete

 
Top