4

कल चौदवीं की रात थी, शब् भर रहा चर्चा तेरा
कुछ ने कहा ये चाँद है, कुछ ने कहा चेहरा तेरा

हम भी वही मौजूद थे, हमसे भी सब पूछा किये
हम हस दिए, हम चुप रहे, मंजूर था पर्दा तेरा

इस शहर में किस से मिले, हमसे तो छुटी महफिले
हर शख्श तेरा नाम ले, हर शख्श दीवाना तेरा

कूंचे को तेरे छोड़कर, जोगी ही बन जाये मगर
जंगल तेरे, पर्वत तेरे, बस्ती तेरी, सहरा तेरा।

तू बेवफ़ा तू मेहरबाँ हम और तुझ से बद-गुमाँ,
हम ने तो पूछा था ज़रा, ये वक्त क्यूँ ठहरा तेरा।

हम पर ये सख़्ती की नज़र, हम हैं फ़क़ीर-ए-रहगुज़र,
रस्ता कभी रोका तेरा, दामन कभी थामा तेरा।

दो अश्क जाने किस लिए, पलकों पे आ कर टिक गए,
अल्ताफ़ की बारिश तेरी, अक्राम का दरिया तेरा।

हाँ हाँ, तेरी सूरत हँसी, लेकिन तू ऐसा भी नहीं,
इस शख़्स के अश‍आर से, शोहरा हुआ क्या-क्या तेरा।

बेशक, उसी का दोष है, कहता नहीं ख़ामोश है,
तू आप कर ऐसी दवा, बीमार हो अच्छा तेरा।

बेदर्द, सुननी हो तो चल, कहता है क्या अच्छी ग़ज़ल,
आशिक़ तेरा, रुसवा तेरा, शायर तेरा, 'इन्शा' तेरा - इब्ने इंशा

Roman
kal chaudhvin ki raat thi, shab bhar raha charcha tera
kuch ne kaha ye chand hai, kuch ne kaha chehra tera

hum bhi wahi moujud the, hamse bhi sab puchha kiye
hum has diye, hum chup rahe, manzoor tha parda tera

is shahar me kis se mile, hamse to chhuti mahfile
har shakhs tera naam le, har shakhs deewana tera

kunche ko tere chhodkar, jogi hi ban jaye magar
jangal tere, parwat tere, basti teri, sahra tera

tu bewafa tu mehrabaan, hum aur tujh se bad-gumaan
ham ne to pucha tha jara, ye waqt ku thahra tera

hum par ye sakhti ki nazar, hum hai fakeer-e-rahgujar
rasta kabhi roka tera, daman kabhi thama tera

do ashq jane kis liye, palko pe aa kar tik gaye
altaf ki barish terim akram ka dariya tera

haa haa, teri surat hasi, lekin tu aisa bhi nahi
is shakhs ke ashaar se, shohra hua kya kya tera

beshq, usi ka dosh hai, kahta nahi khamosh hai
tu aap kar aisi dawa, beemar ho achcha tera

bedard, sunni ho to chal, kahta hai kya achchi gazal
aashiq tera, ruswa tera, shayar tera, insha tera - Ibne Insha
video

Post a Comment Blogger

  1. बहुत दिनों बाद इतनी बढ़िया कविता पड़ने को मिली.... गजब का लिखा है

    ReplyDelete
  2. मेरि तरफ से मुबारकबादी क़ुबूल किजिये.

    ReplyDelete
  3. संगीत के साथ साधारण शायरी भी उम्दा लगती है, या फिर शायद गाने वाली शायरी और लिखने वाली शायरी दो अलग अलग हुनर है ...
    अच्छा संकलन, जारी रखिये ...

    ReplyDelete

 
Top