2
इक दिन ये धरती नीला अम्बर होती
काश मेरे सर पर मेरी चादर होती

जिन चीजो से दीवारे घर बनती है
ऐसी कोई चीज हमारे घर होती

कवर लिहाफ़ो के अक्सर बदले जाते
खाने की मेज़ हमारे घर होती

छुक-छुक करती रेल गुजरती आँगन में
गुडिया होती गुडिया की मोटर होती

दुनिया के बदसूरत हिस्से ढक जाते
अपने पास कोई ऐसी चादर होती- बशीर बद्र

Roman

ik din ye dharti nila ambar hoti
kash mere ghar par meri chadar hoti

jin cheezo se deeware ghar banti hai
aisi koi cheez hamare ghar hoti

kawar lihafo ke aksar badle jate
khane ki mej hamare ghar hoti

chhuk-chhuk karti rel gujrati aangan me
gudiya hoti gudiya ki motar hoti

duniya ke badsurat hisse dhak jate
apne paas koi aisi chadar hoti - Bashir Badr

Post a Comment Blogger

  1. खूबसूरत पन्क्तियां………

    ReplyDelete
  2. अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
    आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
    इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

    धनयवाद ...

    आप की अपनी www.apnivani.com टीम

    ReplyDelete

 
Top