1
ये जीने की कैसी सजा दी गई
हवाओ के रुख पर उड़ा दी गई

किसी पैरहन पर मुन्नकश हुई
किसी आईने में सजा दी गई

किसी जिन्दगी से जुदा करके मै
किसी जिन्दगी से मिला दी गई

किसी घर से मुझको उठाया गया
किसी घर में लाकर बिठा दी गई

जहा जी में आया है रखा मुझे
जहा से भी चाहा हटा दी गई

हसाया गया उम्रभर यु मुझे
हसी ही हसी में रुला दी गई- शाहिदा हसन

Roman

ye jeene ki kaisi saza di gai
hawao ke rukh par uda di gai

kisi paairhan par munnkash hui
kisi aaine me saja di gayi

kisi zindgi se juda karke mai
kisi zindgi se mila di gai

kisi ghar se mujhko uthaya gaya
kisi ghar me lakar bitha di gai

jaha ji me aaya hai rakha mujhe
jaha se bhi chaha hatha di gai

hasaya gaya umra bhar mujhe
hasi hi hasi me rula di hai - Shahida Hasan

Post a Comment

 
Top