2
ख्वाब इन आँखों से अब कोई चुराकर ले जाए
कब्र के सूखे हुए फुल उठाकर ले जाए

मुन्तजिर फुल में खुशबु कि तरह हु कब से
कोई झोके कि तरह आए उड़कर ले जाए

ये भी पानी है मगर आँखों का ऐसा पानी
जो हथेली से रची मेहंदी छुड़ाकर ले जाए

मै मोह्हबत से महकता हुआ ख़त हु, मुझको
जिन्दगी अपनी किताबो में छुपाकर ले जाए

खाक इंसाफ है नाबीना बुतों के आगे
रात थाली में चरागों को सजा कर ले जाए

उनसे कहना कि मै पैदल नहीं आने वाला
कोई बादल मुझे कंधे पे बिठाकर ले जाए -बशीर बद्र

Roman

khwab in aankho se ab koi churakar le jaye
kabr ke sukhe hue phool uthakar le jaye

muntzir phool me khushboo ki tarah hu kab se
koi jhoke ki tarah aaye, udakar le jaye

ye bhi pani hai magar aankho ka aisa pani
jo hatheli se rachi mehandi chhudakar le jaye

mai mohbbat se mahkata hua khat hu, mujhko
zindgi apni kitabo me chupakar le jaye

khaq insaaf hai nabina buto ke aage
raat thali me charago ko sajakar le jaye

unse kahna ki mai paidal nahi aane wala
koi badal mujhe kandhe pe bithakar le jaye- Bashir Badr

Post a Comment Blogger

  1. आभार बशीर बद्र साहब की रचना पढ़वाने का.

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    ReplyDelete
  2. लाजवाब गज़ल ......

    ReplyDelete

 
Top