0
Loading...


पढ़ने में मज़ा तो है आता इन छाओं में,
घनघोर अशुद्धियां हैं तेरी कविताओं में

पहली अशुद्धि सच लिखना,
है दूसरी इनका ना बिकना,
चोर ना छिप सकता है इनके गांव में,
घनघोर अशुद्धियां हैं तेरी कविताओं में

तीसरी अशुद्धि चुभते शब्द,
इनमें सब कुछ है उपलब्ध,
जो होना चाहिए देश के इन युवाओं में,
घनघोर अशुद्धियां हैं तेरी कविताओं में

और पांचवीं इनमें देश-भक्ति,
छटी तेरे गुरुदेव की शक्ति,
छिपा बहुत कुछ है इनकी अदाओं में,
घनघोर अशुद्धियां हैं तेरी कविताओं में

सातवीं इनका जोश दिखाना,
आठवीं सच पर मर मिट जाना,
यशु जान तू मरेगा सब खताओं में,
घनघोर अशुद्धियां हैं तेरी कविताओं में,
पढ़ने में मज़ा तो है आता इन छाओं में - यशु जान
परिचय
यशु जान एक पंजाबी कवि और लेखक हैं। वे जालंधर शहर के रहने वाले हैं। उन्हें बचपन से ही कला से प्यार है। आप गीत, कविता और ग़ज़ल विधा में लिखते है | आपकी एक पुस्तक 'उत्तम ग़ज़लें और कविताएं' नाम से प्रकाशित हो चुकी है | फिलहाल आप जे. आर. डी. एम्. कंपनी में बतौर स्टेट हैड बतौर काम कर रहे हैं |
Mobile : - 9115921994,  Mail : yashujaan09021994@gmail.com
Roman

Padhne men mazaa to hai aataa in chhaaon me,
ghanaghor ashuddhiyaan hain teree kavitaaon me

pahalee ashuddhi sach likhanaa,
hai doosaree inka naa bikanaa,
chor naa chhip sakataa hai inake gaanv me,
ghanaghor ashuddhiyaan hain teree kavitaaon me

teesaree ashuddhi chubhate shabd,
inamen sab kuchh hai upalabdh,
jo honaa chaahie desh ke in yuvaaon me,
ghanaghor ashuddhiyaan hain teree kavitaaon me

aur paanchaveen inamen desh-bhakti,
chhaṭee tere gurudev kee shakti,
chhipaa bahut kuchh hai inakee adaaon me,
ghanaghor ashuddhiyaan hain teree kavitaaon me

saatavi inakaa josh dikhaanaa,
aaṭhaveen sach par mar miṭ jaanaa,
yashu jaan too maregaa sab khataaon me,
ghanaghor ashuddhiyaan hain teree kavitaaon me,
padhne me mazaa to hai aataa in chhaaon me - Yashu Jaan
loading...

Post a Comment

 
Top