0
लोग करने लगे जवाब तलब
अब अदालत में हों जनाब तलब

वो चराग़ों से हाथ धो बैठे
कर रहे थे जो आफ़ताब तलब

ज़ख़्म कुछ और दर्ज करने हैं
कीजिये मत अभी हिसाब तलब

दे चुकी नींद अपनी मंज़ूरी
कर लिए जाएं सारे ख़्वाब तलब

मांगना है तो फिर चमन मांगे
क्यों करें एक दो गुलाब तलब - राज़िक़ अंसारी

Roman

Log karne lage jawab talab
ab adalat me ho janab talab

wo charagho se hath dho baithe
kar rahe the jo aaftab talab

zakhm kuch aur darj karne hai
kijiye mat abhi hisab talab

de chuki nind apni manjuri
kar liye jaye sare khwab talab

mangna hai to phir chaman maange
kyo kare ek do gulab talab - Razique Ansari
.

Post a Comment

 
Top