0
रात के पिछले पहर मैंने वो सपना देखा
खि‍लने से पहले, कली का वो मसलना देखा

एक मासूम कली, कोख में मां के लेटी
सिर्फ गुनाह कि नहीं बेटा, वो थी इक बेटी

सोचे बाबुल कि जमाने में होगी हेटी
बेटी आएगी पराए धन की एक पेटी

सुबह-सांझ बाबा का बेटा-बेटा रटना देखा
तन्हा मां के तब कलेजे का यूं फटना देखा

दादी चाहे कि एक पोते की ही दादी वो बने
दादा चाहे कि मेरे वंश में, बेटी न जने

मां की मजबूरी, कि बिनती वो उल्टी ही गिने
जां बचाने को कायरता में, हाथ खून ने सने

खुद की लाचारी में एक मां का कलपना देखा
आंखों से अश्क नहीं खून का टपकना देखा

बेईमानी से उसे कोख में पहचाना गया
फिर किसी जख़्म की मानिंद कुरेदा भी गया

अनगढ़े हाथों को, पैरों को कुचल काटा गया
नैनों को, होंठो को, गालों को नोंचा भी गया

कितना आसान है, बेटी का यूं मरना देखा
कोख में कत्ल हुई, बेटी का तड़पना देखा

क्या मिला तुमको, बताओ ऐ जमाने वालों
बेटे को बेटी से बेहतर बताने वालों

किसी की मजबूर-सी मां को यूं दबाने वालों
लम्हा-लम्हा किसी के प्राण मिटाने वालों

किसी सीता का फिर अग्नि से, गुज़रना देखा
द्रौपदी-सा किसी का दांव पे लगना देखा

सबने खुदगर्जी में बस मतलब देखा
कैसे बर्बाद, वतन होगा ये अपना देखा- शकुंतला सरुपरिया

Roman

raat ke pichle pahar maine wo sapna dekha
khilne se pahle, kali ka wo maslana dekha

ek masoom kali, kokh me maa ke leti
sirf gunaah ki nahi beta, wo thi ek beti

soche babul ki jamane me hogi heti
beti aayegi paraye dhan ki ek peti

subah sanjh baba ka beta beta ratna dekha
tanha maa ke tab kaleje ka yun fatna dekha

dadi chahe ki ek pote ki hi dadi wo bane
dada chahe ki mere wansh me, beti n jane

maa ki majboori, ki binti wo ulti hi gine
jaan bachane ko kayarata me, haath khun ne sane

khud ki lachari me ek maa ka kalapana dekha
aankho se ashq nahi khun ka tapkana dekha

baimani se use kokh me pahchana gaya
phir kisi zakhm ki manind kureda bhi gya

angadhe haatho ko, pairo ko kuchal kata gaya
naino ko, hotho ko, galo ko noucha bhi gaya

kitna aasan hai, beti ka yun marna dekha
kokh me qatl hui, beti ka tadpana dekha

kya mila tumko, batao ae jamane walo
bete ko beti se behatar batane walo

kisi ki majboor si maa ko yun dabane walo
lamha-lamha kisi ke pran mitane walo

kisi sita ka phir agni se, gujarana dekha
dropdi-sa kisi ka daanv pe lagna dekha

sabse khudgarji me bas matlab dekha
kaise barbad, watan hoga ye apna dekha- Shakuntala Sarupariya

आप इनका ब्लॉग यहाँ पढ़ सकते है : 
.

Post a Comment

 
Top