0
यही वफ़ा का सिला है तो कोई बात नहीं,
ये दर्द तूने दिया है तो कोई बात नहीं,

किसे मजाल कहे कोई मुझको दीवाना,
अगर ये तुमने कहा है तो कोई बात नहीं,

यही बहुत है कि तुम देखते हो साहिल से,
सफ़ीना डूब रहा है तो कोई बात नहीं,

जो आने वाला है कल उसको किसने देखा है,
वो हमसे आज जुदा है तो कोई बात नहीं - शकील बदायूंनी

yahi wafa ka sila hai to koi baat nahi,
ye dard tune diya hai to koi baat nahi,

kise majal kahe koi mujhko deewana,
agar ye tumne kaha hai to koi baat nahi,

yahi bahut hai ki tum dekhte ho sahil se,
safeena doob raha hai koi baat nahi,

jo aane wala hai kal usko kine dekha hai,
wo hamse aaj juda hai to koi baat nahi - Shakeel Badayuni

#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top