0
सरापा जिंदगी इक हादसा है
हमारी हर खुशी इक हादसा है

मिरी बस्ती के दो टुकड़े हुए है
वो पतली-सी नदी इक हादसा है

कोई कब तक यहाँ खुद को बचाये
यहाँ हर आदमी इक हादसा है

मै हूँ नज़रे-सलीबे-वक्त “शैदा”
मिरी जिंदादिली इक हादसा है – शैदा बघौनवी

Roman

Sarapa zindagi ik hadsa hai
Hamari har khushi ik hadsa hai

Miri basti ke do tukde hue hai
Wo patli-si nadi ik hadsa hai

Koi kab tak yaha khud ko bachaye
Yaha har aadmi ik hadsa hai

Mai hu nazre-salibe-waqt shaida
Miri zindadili ik hadsa hai – Shaida Baghounavi

#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top