0
रोज कुर्ते ये कलफदार कहाँ से लाऊ
तेरे मतलब का मै किरदार कहाँ से लाऊ

दिन निकलता है तो सौ काम निकल आते है
ऐ खुदा इतने मददगार कहाँ से लाऊ

सर बुलंदो के लिए सर भी कटा दू लेकिन
सरफिरो के लिए दस्तार कहाँ से लाऊ- हसीब सोज़

Roman

roz kurte ye kalafdaar kahaan se lau
tere matlab ka kirdaar kahaan se lau

din nikalata hai to sou kaam nikal aate hai
ae khuda itne madadgar kahaan se lau

sar bulando ke liye sar bhi kata du lekin
sarfiro ke liye dastar kahaa se lau - Haseeb Soz

Post a Comment Blogger

 
Top