0
भूले बिसरे हुए गम याद बहुत करता है
मेरे अंदर कोई फरियाद बहुत करता है

रोज आता है, डराता है, जगाता है मुझे
तंग मुझको मेरा हमजाद बहुत करता है

मुझसे कहता है कि कुछ अपनी खबर ले बाबा
देख तू वक्त को बर्बाद बहुत करता है

उसके जैसा तो कोई चाहने वाला ही नहीं
करके पाबंद जो आजाद बहुत करता है

बस्तियों में कभी वो खाक उड़ा देता है
कभी सहराओं को आबाद बहुत करता है

गम के रिश्ते को कभी तोड़ न देना वाली
गम खयाले-दिले-नाशाद बहुत करता है - वाली आसी

Roman
Bhule bisre hue gam yaad bahut karta hai
Mere andar koi fariyad bahut karta hai

Roz aata hai, darata hai, jagata hai mujhe
Tang mujhko mera hamjad bahut karta hai

Mujhse kahta hai ki kuch apni khabar le baba
Dekh tu waqt ko barbaad bahut karta hai

Uska jaisa to koi chahne wala hi nahi
Karke paband jo aajad bahut karta hai

Bastiyo me kabhi wo khak uda deta hai
Kabhi sahrao ko aabad bahut karta hai

Gam ke rishte ko kabhi tod n dena wali
Gam khyale-dile-nashad bahut karta hai - Wali Aasi

Post a Comment Blogger

 
Top