0
भीतर बसने वाला खुद बाहर की सैर करे, मौला खैर करे
इक सूरत की चाह में फिर काबे को दैर करे, मौला खैर करे

इश्क़-विश्क़ ये चाहत-वाहत मन का बहलावा फिर मन भी अपना क्या
यार ये कैसा रिश्ता जो अपनों को ग़ैर करे, मौला खैर करे

रेत का तोदा आंधी की फ़ौजों पर तीर चलाए, टहनी पेड़ चबाए
छोटी मछली दरिया में घड़ियाल से बैर करे, मौला खैर करे

सूरज काफ़िर हर मूरत पर जान छिड़कता है, बिन पांव थकता है
मन का मुसलमाँ अब काबे की जानिब पैर करे, मौला खैर करे

फ़िक्र की चाक पे माटी की तू शक्ल बदलता है, या खुद ही ढलता है खैर
बेकल' बे पर लफ़्ज़ों को तख़यील का तैर करे, मौला खैर करे - बेकल उत्साही

Roman
Bhitar basne wala khud bahar ki sair kare, moula khair kare
ek surat ki chaah me fir kaabe ko dair kare, moula khair kare

ishq vishq ye chahat-wahat man ka bahlawa fir man bhi apna kya
yaar ye kaisa rishta jo apno ko gair kare, moula khair kare

ret ka tonda aandhi ki fouz par teer chalaye, tahni ped chabaye
chhoti machhli dariya me ghadiyal se bair kare, moula khair kare

suraj kaafir har murat par jaan chhidkata hai, bin paav thakta hai
man ka muslamaan ab kaabe ki jaanib pair kare, moula khair kare

fikr ki chaak pe maati ki tu shakl badlata hai, yu khud hi dhalta hai
bekal be par lafzo ko takhyeel ka tair kare, moula khair kare- Bekal Utsahi

Post a Comment Blogger

 
Top