0
फिर छिड़ी रात बात फूलो की
रात है या बारात फूलो की

फुल के हार, फुल के गजरे
शाम फूलो की, रात फूलो की

आपका साथ, साथ फूलो का
आपकी बात, बात फूलो की

नज़रे मिलती है जाम मिलते है
मिल रही है हयात फूलो की

कौन देता है जान फूलो पर
कौन करता है बात फूलो की

वो शराफ़त तो दिल के साथ गई
लुट गई कायनात फूलो की

अब किसे दमागे तोहमते इश्क
कौन सुनता है बात फूलो की

मेरे दिल में सरूर-ए-सुबह बहार
तेरी आँखों में रात फूलो की

फुल खिलते रहेंगे दुनिया में
रोज निकलेगी बात फूलो की

ये महकती हुई ग़ज़ल 'मखदूम'
जैसे सहरा में रात फूलो की - मखदूम मोहिउद्दीन

Roman
phir chhidi raat baat phoolo ki
raat hai ya barat phoolo ki

phool ke haar, phool ke gajare
shaam phoolo ki, raat phoolo ki

aapka saath, saath phoolo ka,
aapki baat, baat phoolo ki

najare milti hai jaam milate hai
mil rahi hai hayat phoolo ki

koun deta hai jaan phoolo par
koun karta hai baat phoolo ki

wo sharafat to dil ke sath gayi
lut gayi kaynat phoolo ki

ab kise damage-tohmate ishq
koun sunta hai baat phoolo ki

mere dil me surur-e-subah bahar
teri aankho me raat phoolo ki

phool khilate rahenge duniya me
roj niklegi baat phoolo ki

ye mahakti hui ghazal 'makhdum'
jaise sahra me raat phoolo ki - Makhdoom Mohiuddin

यह ग़ज़ल बाज़ार फिल्म में ली गयी है

Post a Comment Blogger

 
Top