1
होली के पवन अवसर पर पेश है नजीर अकबराबादी की होली आधारित यह नज्म पढ़े और लुत्फ़ ले, आप सभी को होली की अग्रिम बधाईया

जब फागुन रंग झमकते हो तब देख बहारे होली की
और दफ़ के शोर खदकते हो तब देख बहारे होली की
परियो के रंग दमकते हो तब देख बहारे होली की
ख़म शीशए जाम छलकते हो तब देख बहारे होली की
महबूब नशे में छलकते हो तब देख बहारे होली की

हो नाच रंगीली परियो का बैठे गुलरु रंग भरे
कुछ भीगी ताने होली की कुछ नाज़ो अदा के ढंग भरे
दिल भूले देख बहारो को और कानो में आहंग भरे
कुछ तबले खडके रंग भरे कुछ ऐश के दम मुह्चंग भरे
कुछ घुंघरू ताल झांकते हो तब देख बहारे होली की

सामान जहा तक होता है इस इश्रत के मतबुलो का
वह सब सामान मुहैया हो और बाग खिला हो खुबो का
हर आन शराबे ढलती हो और ठठ हो रंग के डुबो का
एस ऐश मजे के आलम में एक गोल खड़ा मह्बुबो का
कपड़ो पर रंग छिडकते हो तब देख बहारे होली की

गुलज़ार खिले हो परियो के और मजलिस की तैयारी हो
कपड़ो पर रंग के छिटो से खुश रंग अजाब गुलकारी हो
मुह लाल, गुलाबी आँखे हो और हाथो में पिचकारी हो
उस रंग भरी पिचकारी को अंगिया पर तक कर मारी हो
सीनों से रंग ढलकते हो तब देख बहारे होली की

और एक तरफ दिल लेने को महबूब भावैयो की लड़के
हर आन घडी गत भरते हो कुछ घट-घट के कुछ बढ़-बढ़के
कुछ नाज़ जतावे लड़-लड़के कुछ होली गावे अड़-अडके
कुछ लचके शोख कमर पतली कुछ हाथ चले कुछ तन फडके
कुछ काफ़िर नैन मटकते हो तब देख बहारे होली की

यह धूम मची हो होली की और ऐश मज़े का छक्कड़ हो
उस खिचखिच घसीटी पर इक नचनिया का फक्कड़ हो
लड़ भिडके 'नज़ीर' फिर निकला हो कीचड़ में लत्थड पत्थड हो
जब ऐसे ऐश झमकते हो तब देख बहारे होली की - नज़ीर अकबराबादी
मायने
शीशए=सागर, गुलरु=सुकिमल नायिका, आहंग=गान, इश्रत=ख़ुशी, मतबुलो=प्रेमी, खुबो=प्रियतमाए

Roman

jab fagun rang jhamkate ho tab dekh bahare holi ki
aur daf ke shor khadkate ho tab dekh bahare holi ki
pariyo ke rang damkate ho tab dekh bahare holi ki
kham shisha-e-jaam chhalkate ho tab dekh bahare holi ki
mahbub nashe me chalkate ho tab dekh bahare holi ki

ho nach rangili pariyo ka baithe gulru rang bhare
kuch bhigi taane holi ki kuch najo ada ke rang bhare
dil bhule dekh baharo ko aur kano me aahang bhare
kuch table khadke rang bhare kuch aish ke dam muhchang bhare
kuch ghunghru taal jhakte ho tab dekh bahare holi ki

saman jaha tak hota hai is ishrat ke matbulo ka
wah sab saman muhaiya ho aur baag khila ho khubo ka
har aan sharabe dhalti ho aur thath ho rang ke dubo ka
aish maje ke aalam me ek gol khada mahbubo ka
kapdo par rang chidkate ho tab dekh bahare holi ki

gulzar hile ho pariyo ke aur mazlis ki taiyari ho
kapdo par rang ke chhito se khush rang ajab gulkari ho
muh laal, gulabi aankhe aur haatho me pichkari ho
us rang bhari pichakari ko angiya par tak kar maari ho
seeno se rang dhalkate ho tab dekh bahare holi ki

aur ek taraf dil lene ko mahbub bhaveiyo ki ladke
har aan ghadi gat bharte ho kuch ghat-ghat ke kuch badh badke
kuch naaj jatave lad-ladke kuch holi gave ad-adake
kuch lachke shokh kamar patli kuch hath chale kuch tan fadke
kuch kafir nain matkate ho tab dekh bahare holi ki

yah dhoom machi ho holi ki aur aish maje ka chakkad ho
us khichkhich ghasiti par ek nachniya ka fakkad ho
lad bhidke ' Nazeer" fir nikla ho kichad me latthad-patthad ho
jab aise aish jhamkate ho tab dekh bahare holi ki - Nazeer Akbarabadi
happy holi, holi shayari, holi poetry

Post a Comment

  1. होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    नीरज

    ReplyDelete

 
Top