0
पत्थर के खुदा, पत्थर के सनम
पत्थर के ही इंसान पायें हैं
तुम शहर-ऐ-मोहब्बत कहते हो
हम जान बचा कर आए हैं

बुतखाना समझते हो जिसको
पूछो ना वहां क्या हालत है
हम लोग वहीँ से लौटे हैं
बस शुक्र करो लौट आए हैं

हम सोच रहे हैं मुद्दत से
अब उम्र गुजारें भी तो कहाँ
सेहरा में खुशी के फूल नहीं
शहरों में ग़मों के साए हैं

होठों पे तबस्सुम हल्का-सा
आँखों में नमी-सी ए फाकिर
हम अहल-ऐ-मोहब्बत पर अक्सर
ऐसे भी ज़माने आए हैं - सुदर्शन फाकिर

Roman

Patthar ke khuda, patthar ke sanam
patthar ke hi insan paye hai
tum shahar-e-mohbbat kahte ho
ham jaan bachakar aaye

butkhana samjhte ho jisko
pucho n waha kya halat hai
ham log waha se loute hai
bas shukr karo lout aaye hai

ham soch rahe hai muddat se
ab umr gujare bhi to kaha
sehra me bhi khushi ke ful nahi
shahro me gamo ke saye hai

hotho pe tabssum halka sa
aankho me nami-si e Fakir
ham ahal-e-mohbbat par aksar
aise bhi jamane aaye hai - Sudarshan Fakir

Listen It.

Post a Comment Blogger

 
Top