2
mera naam musalmano jaisa hai rahu masoom raza nazm
मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को क़त्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
मेरे उस कमरे को लूटो जिसमे मेरी बयाने जाग रही है
और मै जिसमे तुलसी की रामायण से सरगोशी करके
कालिदास के मेघदूत से यह कहता हू
मेरा भी एक सन्देश है !


मेरा नाम मुसलमानों जैसा है
मुझ को क़त्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो
लेकिन मेरी रग़-रग़ में गंगा का पानी दौड़ रहा है
मेरे लहू से चुल्लू भर महादेव के मुह पर फेको
और उस महादेव से कह दो- महादेव
अब इस गंगा को वापस ले लों
यह जलील तुर्कों के बदन में गढ़ा गया
लहू बनकर दौड़ रही है - राही मासूम रज़ा

हमें शांति चाहिए किसी भी प्रकार की हिंसा, हिंसा सहने वाले के साथ-साथ करने के वाले के लिए भी लाभप्रद नहीं होती

Roman

mera naam musalmano jaisa hai
mujh ko qatl karo aur mere ghar me aag laga do
mere us kamre ko luto jisme meri bayane jaag rahi hai
aur mai jisme tulsi ki ramayan se sargoshi karke
kalidas ke meghdoot se yah kahta hu
mera bhi ek sandesh hai

mera naam musalmano jaisa hai
mujh ko qatl karo aur mere ghar me aag laga do
lekin meri rag-rag me ganga ka pani doud raha hai
mere lahu se chullu bhar mahadev ke muh par feko
aur us mahadev se kah ho - mahadev
ab is ganga ko wapas le lo
yah jaleel turko ke badan me gadha gaya
lahu bankar dod rahi rhi hai - Raahi Masoom Raza

Post a Comment Blogger

  1. कैसे तारीफ़ करूँ इस रचना की.... शब्द ही कम पद रहें हैं.... केवल एक ही शब्द है..............बेहतरीन!



    ज़रा यहाँ भी नज़र घुमाएं!
    राष्ट्रमंडल खेल

    ReplyDelete

 
Top