2

masjid to allah ki thahri
फिर आपके लिए राही साहब की एक और रचना

मस्जिद तो अल्लाह की ठहरी
मंदिर राम का निकला
लेकिन मेरा लावारिस दिल
अब जिस की जंबील में कोई ख्वाब
कोई ताबीर नहीं है

मुस्तकबिल की रोशन रोशन
एक भी तस्वीर नहीं है
बोल ऐ इन्सान, ये दिल, ये मेरा दिल
ये लावारिस, ये शर्मिंदा शर्मिंदा दिल
आखिर किसके नाम का निकला

मस्जिद तो अल्लाह की ठहरी
मंदिर राम का निकला
बंदा किसके काम का निकला
ये मेरा दिल है
या मेरे ख्वाबो का मकतल
चारो तरफ बस खून और आंसू, चीखे, शोले
घायल गुडिया

खुली हुई मुर्दा आँखों से कुछ दरवाजे
खून में लिथड़े कमसिन कुरते
एक पाव की जख्मी चप्पल
जगह-जगह से मसकी साड़ी
शर्मिंदा नंगी शलवारे
दीवारों से चिपकी बिंदी
सहमी चूड़ी

दरवाजो की ओट में आवेजो की कब्रे
ऐ अल्लाह, ऐ रहीम, ये मेरी अमानत
ऐ श्रीराम, रघुपति राघव, ऐ मेरे मर्यादा पुरुषोत्तम
ये आपकी दौलत आप सम्हाले

मै बेबस हू
आग और खून के इस दलदल में
मेरी तो आवाज के पाव धसे जाते है - राही मासूम रज़ा

Roman

masjid to allah ki thahri
mandir ram ka nikla
lekin mera lawaris dil
ab jik ki zambil me koi khwab
koi tabir nahi hai
mustakbil ki roshan roshan
ek bhi tasweer nahi hai
bol e insan, ye dil, ye mera dil
ye lawaris, ye sharminda, sharminda dil
aakhir kis ke naam ka nikla

masjid to allah ki thahri
mandir ram ka nikla
banda kiske kaam ka nikla
ye mera dil hai
ya mere khwabo ka maqtal
charo taraf bas khoon aur aansu, cheekhe, shole
ghayal gudiya

khuli hui murda aankho se kuch darwaje
khoon me lithde kamsin kurte
ekk panv ki jakhmi chappal
jagah-jagah se maski sadi
sharminda nangi shalware
deewaro se chipki bindi
sahmi chudhi

darwajo ki ot me aawejo ki kabre
ae allah, ae rahim, ye meri amanat
ae shreeram, raghupati raghav, ae mere maryada purushottam
ye aapki doulat aap sambhale

mai bebas hu
aag aur khoon ke is daldal me
meri to aawaz ke paanv dhase jate hai - Rahi Masoom Raza

Post a Comment Blogger

 
Top