1
हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमाँ, लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यों मेरा कातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर
वो खून जो चश्म-ऐ-तर से उम्र भर यूं दम-ब-दम निकले

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले

भ्रम खुल जाये जालीम तेरे कामत कि दराजी का
अगर इस तुर्रा-ए-पुरपेच-ओ-खम का पेच-ओ-खम निकले

मगर लिखवाये कोई उसको खत तो हमसे लिखवाये
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर कलम निकले

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा-आशामी
फिर आया वो जमाना जो जहाँ से जाम-ए-जम निकले

हुई जिनसे तव्वको खस्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज्यादा खस्ता-ए-तेग-ए-सितम निकले

मुहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले

जरा कर जोर सिने पर कि तीर-ऐ-पुरसितम निकले
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकले

खुदा के बासते पर्दा ना काबे से उठा जालिम
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही काफिर सनम निकले

कहाँ मयखाने का दरवाजा 'गालिब' और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं, कल वो जाता था के हम निकले - ग़ालिब
मायने
चश्मे-तर से =सजल नेत्रों से,  खुल्द=स्वर्ग, आदम=आदिमानव, वाइज़=उपदेशक, काफ़िर सनम=बुत

Roman

Hazaaron khwaishein aisi ki har khwahish pe dam nikle
Bahut niklay mere armaan, lekin phir bhi kam nikle

Daray kyon mera qaatil, kya rahega uski gardan par
Voh khoon jo chashm-e-tar se umr bhar yoon dam-ba-dam nikle

Nikalna khuld se aadam ka soonte aaye hain lekin
Bahut be-aabru hokar tere kooche se hum nikle

Bharam khul jaaye zaalim teri qaamat ki daraazi ka
Agar is turahe-purpech-o-kham ka pech-o-kham nikle

Magar likhvaaye koi usko khat, to hum se likhvaaye
Hui subaha aur ghar se kaan par rakh kar qalam nikle

Hui is daur mein mansoob mujh se baada-aashaami
Phir aaya voh zamaana jo jahaan mein jaam-e-jum nikle

Hui jin se tavaqqa khastagi ki daad paane ki
Voh hamse bhi zyaada khasta-e-tegh-e-sitam nikle

Mohabbat mein nahin hai farq jeenay aur marnay ka
Usi ko dekh kar jeetay hain, jis kaafir pe dam nikle

Zara kar jor seene par ki teer-e-pursitam niklejo
Jo wo nikle to dil nikle, jo dil nikle to dam nikle

Khuda ke waaste parda na kaabe se uthaa zaalim
Kaheen aisa na ho yaan bhi wahi kaafir sanam nikle

Kahaan maikhane ka darwaaza 'Ghalib' aur kahaan vaaiz
Par itna jaantay hain kal voh jaata tha ke ham nikle - Mirza Ghalib



hazaron khwahishen aisi lyrics in hindi, hazaron khwahishen aisi lyrics in urdu, hazaron khwahishen aisi ki, hazaron khwahishen aisi jagjit singh, hajaaron khwaishein aisi , hazaron khwahishen aisi jakhira, hazaaron khwaishein aisi, hajaro khwahishen aisi ki

Post a Comment

  1. हज़ारो ख्वाहिशे ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
    बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले
    डरे क्यों मेरा कातिल, क्या रहेगा उसकी गर्दन पर
    वो ख़ू जजों चश्मे-तर से उम्र भर यु दम-ब-दम निकले
    bahut badhiya sher...

    ReplyDelete

 
Top