2
स्वप्न भरे फूल से,
मीत चुभे शूल से,
लुट गए सिंगार सभी बाग़ के बाबुल से,
और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे
कारवां गुजर गया, गुबार देखते रहे ॥

नींद भी खुली न थी कि हाय धुप ढल गई,
पाँव जब तलक उठे कि जिन्दगी फिसल गई,
पातपात जहर गए कि शाख-शाख जल गई,
छाँव तो निकल सकी न, पर उम्र निकल गई,
गीत अश्क बन गए,
छंद हो दफ़न गए,
साथ के सभी दिए धुआ-धुआ पहन गए,
और हम झुके-झुके,
मोड़ पर रुके-रुके,
उम्र के चढाव का उतार देखते रहे
कारवां गुजर गया, गुबार देखते रहे ॥

क्या शबाब था कि फूल-फूल प्यार कर उठा,
क्या सुरूर था कि देख आइना सिहर उठा,
इस तरफ जमीं उठी तो आसमान उधर उठा,
थाम कर जिगर उठा कि जो मिला नजर उठा,
एक दिन मगर यहाँ,
ऐसी कुछ हवा चली,
लुट गई कली-कली कि छुट गयी गली-गली,
और हम लूटे-लूटे,
वक़्त से पिटे-पिटे
सास कि शराब का खुमार देखते रहे
कारवा गुजर गया, गुबार देखते रहे ॥

हाथ थे मिले कि जुल्फ चाँद कि सवार दू,
होठ थे खुले कि हर बहार को पुकार दू,
दर्द था दिया गया कि हर दुखी को प्यार दू,
और सांस यु कि स्वर्ग भूमि पर उतार दू,
हो सका न कुछ मगर,
शाम बन गई सहर,
वह उठी लहर कि दह गए किले बिखर-बिखर,
और हम डरे-डरे,
नीर नयन में भरे,
ओढ़कर कफ़न, पड़े मजार देखते रहे
कारवा गुजर गया, गुबार देखते रहे ॥

मांग भर चली कि एक, जब नई-नई किरण,
ढोल के धुमुक उठी, ठुमक उठे चरण-चरण,
शोर मच गया कि चली दुल्हन, चली दुल्हन,
गाँव सब उमड़ पड़ा, बहक उठे नयन-नयन,
पर तभी जहर भरी,
गाज एक वह गिरी,
पूंछ गया सिन्दूर तार-तार हुई चुनरी,
और हम अनजान से,
दूर के मकान से,
पालकी लिए हुए कहार देखते रहे
कारवा गुजर गया, गुबार देखते रहे  ॥ - गोपालदास नीरज

Roman

swapn bhare phool se,
meet chubhe shool se,
lut gaye singar sabhu baag ke babul se,
aur hum khade-khade bahar dekhte rahe
karwan gujar gya, gubar dekhte rahe

nind bhi khuli n thi ki haay dhoop dhal gayi,
paanv jab talak uthe ki zindgi fisal gai,
paatpaat zahar gaye ki shakh-shakh jal gai,
chaanv to nikal saki n, par umra nikal gai
geet ashq ban gaye,
chand ho dafan gaye,
sath ke sabhi diye dhuaan-dhuaan pahan gaye,
aur hum jhuke-jhuke,
mod par ruke-ruke
umra ke chadhav ka utaar dekhte rahe
karwan gujar gya, gubar dekhte rahe

kya shabab tha ki phool-phool pyar kar utha,
kya surur tha ki dekh aaina sihar utha,
is taraf zameen uthi to aasmaan udhar utha,
thaam kar jigar utha ki jo mila nazar utha,
ek din magar yahan,
aisi kuch hawa chali,
lut gai kali-kali ki chhut gai gali-gali,
aur hum lute-lute,
waqt se pite-pite,
sas ki sharab ka khumar dekhte rahe,
karwan gujar gya, gubar dekhte rahe

hath the mile ki zulf chand ki sawar du,
hoth the khule ki har bahar ko pukar du,
drd tha diya gya ki har dukhi ko pyar du,
aur saans yu ki swarg bhumi par utaar du,
ho saka n kuch magar,
sham ban gai sahar,
wah uthi lahar ki dhah gaye kile bikhar-bikhar,
aur hum dare-dare,
neer nayan me bhare,
odhkar kafan, pade mazar dekhte rahe,
karwan gujar gya, gubar dekhte rahe

maang bhar chali ki ek, jab nai-nai kiran,
dhol ke dhumuk uthi, thumak uthe charan-charan,
shor mach gya ki chali dulhan, chali dulhan,
gaanv sab umad pada, bahak uthe nayan-nayan,
par tabhi zahar bhari,
gaaj ek wah giri,
puch gya sindur taar-taar huio chunri,
aur hum anjan se,
palki liye hue kahaar dekhte rahe,
karwan gujar gya, gubar dekhte rahe - Gopaldas Neeraj

Post a Comment Blogger

  1. अच्छा लिखते है आप
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद नीरज जी की कालजयी रचना के अंश पढ़वाने का.

    ReplyDelete

 
Top