0
वो महकती पलकों की और से कोई तारा चमका था रात में
मेरी बंद मुठ्ठी न खोलिए, वही कोहिनूर है हाथ में

में तमाम तारे उठा-उठा के गरीब लोगो में बाट दू
कभी एक रात वो आसमा का निजाम दे मेरे हाथ में

अभी शाम तक मेरे बाग़ में कही कोई फूल खिला न था
मुझे ख़ुशबुओ में बसा गया तेरा प्यार एक ही रात में

तेरे साथ इतने बहुत से दिन तो पलक झपकते ही गुजर गए
हुई शाम खेल ही खेल में, गई रात बात ही बात में

कभी सात रंगों का फूल हु, कभी धुप हु, कभी धुल हु
में तमाम कपडे बदल चूका तेरे मौसमो की बारात में- बशीर बद्र

Roman

wo mahkati palko ki aur se koi tara chamka tha raat me
meri band muththi n kholiye, wahi kohinoor hai haath me

mai tamam tare utha-utha ke garib logo me bat du
kabhi ek raat wo aasmaan ka nizam de mere haath me

abhi sham tak mere baagh me kahi koi phool khila n tha
mujhe khubuo me basa gya tera pyar ek hi raat me

tere sath itne bahut se din to palak jhapkate hi gujar gaye
hui shaam khel hi khel me, gai raat baat hi baat me

kabhi saat rango ka phool hun, kabhi dhoop hun, kabhi dhool hun
mai tamam kapde badal chuka tere mousmo ki baarat me - Bashir Badr

Post a Comment Blogger

 
Top