0
ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है  - सय्यद ज़मीर जाफरी
ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है - सय्यद ज़मीर जाफरी

ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है मिरा मिज़ाज लड़कपन से लीडराना है इलाही ख़ैर दिल-ए-ज़ार ओ ना-तवान की ख़ैर कि आज उन का हर अंदाज़ हिटलरा...

Read more »

0
दिल पर मेरे निशान हैं ये सब नये नये - राज़िक़ अंसारी
दिल पर मेरे निशान हैं ये सब नये नये - राज़िक़ अंसारी

दिल पर मेरे निशान हैं ये सब नये नये तरकश में रोज़ तीर हैं साहब नये नये हमने तो सब के सामने रख दी है अपनी बात दिन भर निकाले जाएंगे मतलब ...

Read more »

0
खूब पहचान लो असरार हूँ मै - मजाज़ लखनवी
खूब पहचान लो असरार हूँ मै - मजाज़ लखनवी

खूब पहचान लो असरार हूँ मै जीन्स-ए-उल्फत का तलबगार हूँ मै इश्क ही इश्क है दुनिया मेरी फितना-ए-अक्ल से बेज़ार हूँ मै छेड़ती है जिसे मिज...

Read more »

0
इक दिन ऐसा भी आएगा होंठ-होंठ पैमाने होंगे - बेकल उत्साही
इक दिन ऐसा भी आएगा होंठ-होंठ पैमाने होंगे - बेकल उत्साही

आज बेकल उत्साही साहब को जन्नतनशी हुए एक बरस हो गया वो आज ही के दिन पिछले बरस 03 दिसम्बर 2016 को मृत्यु को प्राप्त हुए थे | उन्हें याद कर...

Read more »

0
बाल सँवारे मांग निकाले - मोहम्मद दीन तासीर
बाल सँवारे मांग निकाले - मोहम्मद दीन तासीर

बाल सँवारे मांग निकाले, दुहरा तेरा अचल डाले, नाक पे बिंदी कान में बाले, जग-मग जग-मग करनेवाले | माथे पे चन्दन का टीका, आँख में अनजान ...

Read more »

0
मोहम्मद दीन तासीर परिचय
मोहम्मद दीन तासीर परिचय

दी न मोहम्मद तासीर ( Mohd Deen Taseer )  28 फरवरी 1902 को अजनाला पंजाब में जन्मे | डॉ. एम. डी. तासीर नाम से भी जाने जाते है | आपके पिताजी मि...

Read more »
 
 
Top