2
Kaif Bhopali
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा
भूका है भोपाल !

हौक रहा है डौक रहा है, फाका और इफ़लास
फ़ाका और इफ़लास है गोया आंधी और भूचाल
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

लंबी-लंबी मुछो वाले, बिल्ली और खरगोश
अकड़ी-अकड़ी गर्दन वाले, मुफलिस और कंगाल
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

मुल्ला साहब लेकर भागे, मस्जिद की कंदील
पंडित जी बाजार में बेचे मंदिर की घंटाल |
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

टोडे देकर गेहू ख़रीदे, शहर के ठेकेदार,
जेवर देकर रोटी मांगे सेठ मदनगोपाल |
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !
सेठ बेचारे चीख रहे है, फूल रहे है पेट,
सरमाया दम तोड़ रहा है, डूब रहा है माल
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

तू भी मई भी मस्त कलंदर, मस्तो को क्या फ़िक्र
तेरे घर का हाल रे बाबा, मेरे घर का हाल
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

फ़ाकें की अफरात है यारो, रोजी का पैगाम
अपनी किस्मत चेत रही है और है इक दो साल
भूका है भोपाल
भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल ! - कैफ भोपाली

मायने
इफ़लास=भूख और गरीबी, कंदील = लालटेन, फ़ाके=भुखमरी की अधिकता

Roman
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba,
bhuka hai bhopal !

Houk raha hai douk raha hai, faka aur iflas,
faka aur iflas hai goya aandhi aur bhuchal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

lambi-lambi muchho wale, billi aur khargosh,
akdi-akadi gardan wale, muflis aur kangaal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

mulla sahab lekar bhage, masjid ki kandil,
pandit ji bajar me beche mandir ka ghantal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

tode dekar gehu kharide, shahar ke thekedar
jewar dekar roti mange seth madangopal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

seth bechare cheekh hai, fool rahe hai pet,
sarmaya dam tod raha hai, doob raha hai maal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

tu bhi mai bhi mast kalandar, masto ko kya fikr
tere ghar ka haal re baba, mere ghar ka haal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal !

faake ki afraat hai yaaro, roji ka paigaam
apni kismat chait rahi hai aur hai do ik saal
bhukha hai bhopal
bhuka hai bhopal re baba, bhuka hai bhopal ! - Kaif Bhopali

Post a Comment Blogger

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कब होगा इंसाफ - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. टोडे देकर गेहू ख़रीदे, शहर के ठेकेदार,
    जेवर देकर रोटी मांगे सेठ मदनगोपाल |
    भूका है भोपाल
    भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

    सेठ बेचारे चीख रहे है, फूल रहे है पेट,
    सरमाया दम तोड़ रहा है, डूब रहा है माल
    भूका है भोपाल
    भूका है भोपाल रे बाबा, भूका है भोपाल !

    बहुत सही। .

    क्या से क्या बन रहा हमारा भोपाल
    सोचना है सबको क्यों बिगड़ी चाल


    ReplyDelete

 
Top