1
आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतह पर टूटता भी है, डूबता भी है,
फिर उभरता है, फिर से बहता है,
न समंदर निगला सका इसको, न तवारीख़ तोड़ पाई है,
वक्त की मौज पर सदा बहता - आदमी बुलबुला है पानी का।

ज़िंदगी क्या है जानने के लिए,
जिंदा रहना बहुत जरूरी है।
आज तक कोई भी रहा तो नहीं॥


सारी वादी उदास बैठी है,
मौसम-ए-गुल ने खुदकुशी कर ली।
किसने बारूद बोया बागों में॥

आओ हम सब पहन लें आईनें,
सारे देखेंगे अपना हीं चेहरा।
सब को सारे हसीं लगेंगे यहाँ॥

हैं नहीं जो दिखाई देता है,
आईने पर छपा हुआ चेहरा।
तर्जुमा आईने का ठीक नहीं॥

हमको ग़ालिब ने ये दुआ दी थी,
तुम सलामत रहो हजार बरस।
ये बरस तो फ़क़त दिनों में गया॥

लब तेरे मीर ने भी देखे हैं,
पंखुरी इक गुलाब की सी है।
बातें सुनते तो ग़ालिब हो जाते॥

ऎसे बिखरे हैं रात-दिन जैसे,
मोतियों वाला हार टूट गया।
तुमने मुझको पिरोके रखा था॥ - गुलज़ार

Listen It


Roman

aadmi bulbula hai pani ka
aur pani ki bahati satah par tutta bhi hai, dubta bhi hai,
fir ubharata hau, fir se bahata hai
n samandar nigal saka isko, n tawarikh tod payi hai
waqt ki mouz par sada bahata, aadmi bulbula hai paani ka

zindgi kya hai janane ke liye,
zinda rahan bahut zaruri hai
aaj tak koi bhi raha to nahi

sari wadi udas baithi hai
mousam-e-gul ne khudkushi kar li
kisne barud boya bago me

aao ham sab pahan le aaine
sare dekhenge apana hi chehra
sab ko sare hasi lagenge yaha

hai nahi jo dikhai deta hai
aaine par chhapa hua chehra
tarjuma aaine ka thik nahi

hamko ghalib ne ye dua di thi
tum salamat raho hajar baras
ye baras to fakt dino me gaya

lab tere meer ne bhi dekhe hai
pankhuri ik gulab ki si hai
baate sunte to Ghalib ho jate

aise bikhre hai rat-din jaise,
motiyo wala haar tut gaya
tumne mujhko piroke rakha tha - Gulzar

Post a Comment Blogger

  1. गुलज़ार जी को पढवाने के लिये आभार्।

    ReplyDelete

 
Top