0
vasiyat वसीयत  भगवती चरण वर्मा
vasiyat वसीयत भगवती चरण वर्मा

भगवती चरण वर्मा जी के जन्मदिन पर पेश है उनकी यह कहानी आशा है आपको पसंद आएगी | जिस समय मैंने कमरे में प्रवेश किया, आचार्य चूड़ामणि मिश्र आंखे...

Read more »

0
वो जो मुह फेर कर गुजर जाए - मजरूह सुल्तानपुरी
वो जो मुह फेर कर गुजर जाए - मजरूह सुल्तानपुरी

वो जो मुह फेर कर गुजर जाए हश्र का भी नशा उतर जाए अब तो ले ले जिन्दगी यारब क्यों ये तोहमत भी अपने सर जाए आज उठी इस तरह निगाहें करम जै...

Read more »

2
जो बात है हद से बढ़ गयी है -फ़िराक गोरखपुरी
जो बात है हद से बढ़ गयी है -फ़िराक गोरखपुरी

जो बात है हद से बढ़ गयी है वाएज़ के भी कितनी चढ़ गई है हम तो ये कहेंगे तेरी शोख़ी दबने से कुछ और बढ़ गई है हर शय ब-नसीमे-लम्से-नाज़ुक...

Read more »

2
पहले सौ बार इधर और उधर देखा है - मजरूह सुल्तानपुरी
पहले सौ बार इधर और उधर देखा है - मजरूह सुल्तानपुरी

पहले सौ बार इधर और उधर देखा है तब कहीं डर के तुम्हें एक नज़र देखा है हम पे हँसती है जो दुनियाँ उसे देखा ही नहीं हम ने उस शोख को ऐ दीदा...

Read more »

1
दर्दे-दिल, दर्दे-वफ़ा, दर्दे-तमन्ना क्या है  - जाँ निसार अख़्तर
दर्दे-दिल, दर्दे-वफ़ा, दर्दे-तमन्ना क्या है - जाँ निसार अख़्तर

दर्दे-दिल, दर्दे-वफ़ा, दर्दे-तमन्ना क्या है आप क्या जानें मोहब्बत का तकाज़ा क्या है बेमुरव्वत बेवफ़ा बेगाना-ए-दिल आप हैं आप माने या न माने...

Read more »

3
न मै कंघी बनाता हूँ, न मै चोटी बनाता हूँ - मुनव्वर राना
न मै कंघी बनाता हूँ, न मै चोटी बनाता हूँ - मुनव्वर राना

न मै कंघी बनाता हूँ, न मै चोटी बनाता हूँ ग़ज़ल मै आप बीती को मै जग बीती बनाता हूँ ग़ज़ल वो सिंफे-नाजुक है जिसे अपनी रफाक़त से वो महबूबा बना...

Read more »

0
manto 5 short stories मंटो की पांच लघुकथाए
manto 5 short stories मंटो की पांच लघुकथाए

आज आप सभी के लिए पेश है सआदत हसन मंटो की पांच लघुकथाए 1 ) करामात लूटा हुआ माल बरामद करने के लिए पुलिस ने छापे मारने शुरू किए। लोग डर के मार...

Read more »

0
जश्न-ए-आजादी  - फय्याज ग्वालयरी
जश्न-ए-आजादी - फय्याज ग्वालयरी

आप सभी को जश्ने आज़ादी ( स्वतंत्रता दिवस / Independence Day) की शुभकामनाए | आज़ादी के जश्न पर आप सभी के लिए फय्याज ग्वालियरी साहब की जश्ने-आज़...

Read more »

1
उदासियो ने मेरी आत्मा को घेरा है - मीना कुमारी नाज़
उदासियो ने मेरी आत्मा को घेरा है - मीना कुमारी नाज़

मीना कुमारी जी के जन्मदिन के अवसर पर उनकी यह ग़ज़ल पेश है | आशा आप सभी को पसंद आएगी उदासियो ने मेरी आत्मा को घेरा है रुपहली चांदनी है और घु...

Read more »
 
 
Top