0
दिल है आईना-ए-हैरत -आबिद हुसैन आबिद
दिल है आईना-ए-हैरत -आबिद हुसैन आबिद

दिल है आईना-ए-हैरत से दो-चार आज की रात ग़म-ए-दौराँ में है अक्स-ए-ग़म-ए-यार आज की रात आतिश-ए-गुल को दामन से हवा देती है दीदनी है रविश-ए-मौ...

Read more »

0
sihasan battisi -2 सिहासन बत्तीसी तीसरी किश्त
sihasan battisi -2 सिहासन बत्तीसी तीसरी किश्त

सिहासन बत्तीसी की तीसरी किश्त सिहासन बत्तीसी पिछले भाग आप यहाँ पढ़ सकते है  पहली किश्त   दूसरी किश्त ************* " आप...

Read more »

1
उसको कितना गुमान है यारो - डॉ. रौनक रशीद खान
उसको कितना गुमान है यारो - डॉ. रौनक रशीद खान

उसको कितना गुमान है यारो जैसे वो आसमान है यारो मेरी खामोशियो पे तंज न कर मेरे मुंह में भी जबान है यारो बात बिगड़ी हुई बनाता है रब बड़ा...

Read more »

0
sihasan battisi - 1 सिहासन बत्तीसी दूसरी किश्त
sihasan battisi - 1 सिहासन बत्तीसी दूसरी किश्त

सिहासन बत्तीसी की दूसरी किश्त सिहासन बत्तीसी पिछली किस्त  " आप  यहाँ से भी पूरी सिंहासन बत्तीसी पीडीऍफ़ में डाउनलोड कर सकते है...

Read more »

0
chori ka arth चोरी का अर्थ  विष्णु प्रभाकर
chori ka arth चोरी का अर्थ विष्णु प्रभाकर

एक लम्बे रास्ते पर सड़क के किनारे उसकी दुकान थी। राहगीर वहीं दरख्तों के नीचे बैठकर थकान उतारते और सुख-दुख का हाल पूछता। इस प्रकार तरोताजा हो...

Read more »

0
sihasan battisi सिहासन बत्तीसी पहली किश्त
sihasan battisi सिहासन बत्तीसी पहली किश्त

हम शुरुवात कर रहे है बहुत ही प्रसिद्ध कहानी जिसे हम सभी सिहासन बत्तीसी के नाम से जानते है इस कहानी का प्रकाशन किश्तों में किया जायेगा | सिहा...

Read more »
 
 
Top