0
करनी है दिल की बात ग़ज़ल की ज़बान में
तुम ने हमे भी थाल डाल दिया इम्तिहान में

महसूस कर सको तो खुद दूर भी नहीं
मौजूद हर जगह ज़मीन आसमान में

गुज़रा हे उसकी याद का जुगनू क़रीब से
है रौशनी ही रौशनी दिल की दूकान में

दुनिया की आरज़ू में ज़मीर अपना बेच दे
ऐसा कोई नहीं है हमारे मकान में

कहते हैं कायनात एक आयना खाना है
तुझ सा कोई मिला ना हमे जहां में - परवेज़ मुजफ्फर

Roman
karni hai dil ki baat ghazal ki zabaan me
tum ne hame bhi thaal daal diya imtihan me

mahsus kar sako to khud door bhi nahi
moujud har jagah zameen aasmaan me

gujra hai uski yaad ka jugnoo kareeb se
hai roshni hi roshni dil ki dukan me

duniya ki aarjoo me zameer apna bech de
aisa koi nahi hai hamare makan me

kahte hai kaynaat ek aayna khana hai
tujh sa koi mila na hame jahaan me - Parvez Muzffar
.

Post a Comment

 
Top