0
मुझे ग़ुस्सा दिखाया जा रहा है - शेरी भोपाली
मुझे ग़ुस्सा दिखाया जा रहा है - शेरी भोपाली

मुझे ग़ुस्सा दिखाया जा रहा है तबस्सुम को चबाया जा रहा है वहीं तक आबरू में ज़ब्त-ए-ग़म है जहाँ तक मुस्कुराया जा रहा है दो आलम मैंने छोड़े ज...

Read more »

0
नई आस्तीन -  शकील आज़मी
नई आस्तीन - शकील आज़मी

न मेरे ज़हर में तल्ख़ी रही वो पहली सी बदन में उस के भी पहला सा ज़ाइक़ा/ज़ायका न रहा हमारे बीच जो रिश्ते थे सब तमाम हुए बस एक रस्म बच...

Read more »

0
ग़ज़ब है जुस्तजू-ए-दिल का ये अंजाम हो जाए - शेरी भोपाली
ग़ज़ब है जुस्तजू-ए-दिल का ये अंजाम हो जाए - शेरी भोपाली

ग़ज़ब है जुस्तजू-ए-दिल का ये अंजाम हो जाए कि मंज़िल दूर हो और रास्ते में शाम हो जाए वही नाला वही नग़्मा बस इक तफ़रीक़-ए-लफ़्ज़ी है ...

Read more »

1
दिल की इक हर्फ़ ओ हिकायात है ये भी न सही - शोला अलीगढ़ी
दिल की इक हर्फ़ ओ हिकायात है ये भी न सही - शोला अलीगढ़ी

दिल की इक हर्फ़ ओ हिकायात है ये भी न सही गर मिरी बात में कुछ बात है ये भी न सही ईद को भी वो नहीं मिलते हैं मुझ से न मिलें इक बरस दिन ...

Read more »

0
ज़िन्दगी की उड़ान से हट जाएं - राज़िक़ अंसारी
ज़िन्दगी की उड़ान से हट जाएं - राज़िक़ अंसारी

ज़िन्दगी की उड़ान से हट जाएं हम अगर तेरे ध्यान से हट जाएं जान जिनको अज़ीज़ है अपनी इश्क़ के इम्तिहान से हट जाएं मेरा वादा, लकीर पत्...

Read more »

0
खुदा को ही अब साँचों मे उतरना पडेगा - avanindra singh
खुदा को ही अब साँचों मे उतरना पडेगा - avanindra singh

उतरेंगे फलक से तो जमीन पर चलना पडेगा, सितारों को कदम कदम पर सभँलना पडेगा। तरह तरह के रंग दिखाती इस दुनिया में, तुझे आईने की तरह ढलना पड...

Read more »
 
 
Top