0
khoob pahchan lo asraar hun mai
खूब पहचान लो असरार हूँ मै
जीन्स-ए-उल्फत का तलबगार हूँ मै

इश्क ही इश्क है दुनिया मेरी
फितना-ए-अक्ल से बेज़ार हूँ मै

छेड़ती है जिसे मिजराब-ए-आलम
साज़-ए-फितरत का वही तार हूँ मै

ऐब जो हाफ़िज़-ओ- ख्य्याम में था
हां कुछ इस का भी गुनाहगार हूँ मै

जिंदगी क्या है गुनाह-ए-आदम
जिंदगी है तो गुनाहगार हूँ मै

मेरी बातो में मसीहाई है
लोग कहते है कि बीमार हूँ मै

एक लपकता हुआ शौला हूँ मै
एक चलती हुई तलवार हूँ मै - मजाज़ लखनवी

यह भी पढ़े : खूब पहचान लो असरार हूँ मै लेख

Roman

Khoob Pahachaan Lo Asrar Hoon Mai
Jins-E-Ulfat Kaa Talabgaar Hoon Mai

Ishq Hi Ishq Hai Duniyaa Meri
Fitanaa-E-Aql Se Bezaar Hoon Mai

Chhedati Hai Jise Mizaraab-E-Alam
Saaz-E-Fitarat Kaa Vahi Taar Hoon Mai

Aib Jo Haafiz-O-Khayyaam Men Thaa
Haan Kuchh Is Kaa Bhi Gunahgaar Hoon Mai

Zindagi Kyaa Hai Gunaah-E-Aadam
Zindagi Hai To Gunahgaar Hoon Mai

Meri Baaton Men Masihaai Hai
Log Kahate Hain ki Bimaar Hoon Mai

Ek Lapakataa Huaa Sholaa Hoon Mai
Ek Chalati Hui Talavaar Hoon Mai - Mijaz Lakhnavi
Next
This is the most recent post.
Previous
Older Post

Post a Comment

 
Top