0
ग़रीब-ख़ाना हमेशा से जेल-ख़ाना है
मिरा मिज़ाज लड़कपन से लीडराना है

इलाही ख़ैर दिल-ए-ज़ार ओ ना-तवान की ख़ैर
कि आज उन का हर अंदाज़ हिटलराना है

तुम आज क्यूँ ये गवर्नर से बन के बैठे हो
कहो कहो मिरी जाँ किस को आज़माना है

दिलों का फ़र्श बिछा है जिधर निगाह करो
तुम्हारा घर भी दिलों का कबाड़-ख़ाना है

न देख आह मुझे ऐ निगाह-ए-यार न देख
कि आज तेरा हर अंदाज़ जारेहाना है

मुझे 'ज़मीर' ख़ुदा के करम से क्या न मिला
मिज़ाज गर्म तबीअत भी शाइराना हैहै - सय्यद ज़मीर जाफरी

Roman

Garib-khana hamesha se jail-khana hai
mira mijaz ladakpan se leadrana hai

ilahi khair dil-e-zar o naa-tawan ki khair
kee aaj un ka har anzaj hitlarana hai

tum aaj kyu ye governor se ban ke baithe ho
kaho kaho miri jaan kis ko aajmana hai

dilo ka farsh biccha hai jidhar niagaah karo
tumhara ghar bhi dilo ka kabad-khana hai

n dekh aah mujhe e nigaah-e-yaar n dekh
ki aaj tera har andaj zorhana hai

mujhe "Zameer" khuda ke karam se kya n mila
mijaz garm tabiyat bhi shayrana hai - Sayyad Zameer jafri
.

Post a Comment

 
Top