0
दिल पर मेरे निशान हैं ये सब नये नये
तरकश में रोज़ तीर हैं साहब नये नये

हमने तो सब के सामने रख दी है अपनी बात
दिन भर निकाले जाएंगे मतलब नये नये

हमने भी खूब ज़ख़्म सहे दुख उठाए है
ज़ालिम की ज़द में आए थे हम जब नये नये

तुम ठीक से अभी मुझे पहचानते नहीं
सहरा में अभी आए हो तुम सब नये नये

हमको भी कुछ सिखाइए आदाब इश्क़ के
हम भी हुए हैं दाख़िले मकतब नये नये - राज़िक़ अंसारी

Roman

dil par mere nishan hai ye sab naye naye
tarkash me roj teer hai sahab naye naye

hamne to sab ke samne rakh di hai apni baat
din bhar nikale jayenge matlab naye naye

hamne bhi khoob zakhm sahe dukh uthaye hai
zalim ki zad me aaye the ham jab naye naye

tum thik se abhi mujhe pahchante nahi
sahra me abhi aaye ho tum sab naye naye

hamko bhi kuch sikhaiye aadab ishq ke
hum bhi hue hai dakhil-e- maqtab naye-naye - Razique Ansari
.

Post a Comment

 
Top