1
मुझको ही ऐसा लगता है या सचमुच ही हो जाता है
मै बातें तुमसे करता हूं चांद गुलाबी हो जाता है

उस दिल के क्या कहने जिसमे गम के कांटे डूब गए हों
ऐसा ही दिल और किसी के दिल से नत्थी हो जाता है

कोयल को उकसाने वालों पंछी का दुख तुम क्या जानो
दुखिया कोयल की कूँकों से जंगल ज़ख्मी हो जाता है

मुरझाना मकदूर है फिर भी बाद ए सबा के खुश रखने को
खिलने पर नादान शगूफ़ा हँस कर राजी़ हो जाता है

दौरे तरक्की में बच्चों को आसाईश हैं हम से ज्यादा
अलबत्ता इस दौर का बच्चा बूढ़ा जल्दी हो जाता है

बाहर क्या अपने घर में भी हद से बढ कर पाबन्दी पर
बेटी सरकश हो जाती है बेटा बागी हो जाता है

चुप रह कर दुख सहते रहिये कोई हाल नहीं पूछेगा
एक ग़ज़ल कहिये तो सहरा बस्ती हो जाता है - मुज़फ़्फ़र हनफ़ी

मायने
सरकश = उद्दंड

यह भी पढ़िए : बच्चो पर कुछ अशआर

Roman

mujhko hi aisa lagta hai ya sachmuch hi ho jata hai
mai baate tumse karta hun chaand gulabi ho jata hai

us dil ke kya kahne jisme gham ke kante doob gaye ho
aisa hi dil aur kisi ke dil se natthi ho jata hai

koyal ko uksane walo panchi ka dukh tum kya jano
dukhiya koyal ki kunko se jangal jakhmi ho jata hai

murjhana makdoor hai fir bhi baad-e-saba ke khush rakhne ko
khilne par naadana shagufa has kar raji ho jata hai

doure tarqqi me bachcho ko aasaish hai ham se jyada
albatta is dour ka bachcha budha jaldi ho jata hai

baahar kya apne ghar me bhi had se jayada badh kar pabandi par
beti sarkash ho jati hai beta baagi ho jata hai

chup rah kar dukh sahte rahiye koi haal nahi puchhega
ek ghazal kahiye to sahra basti ho jata hai - Muzffar Hanfi

Post a Comment

 
Top