0
बतलाते हैं सारे मंज़र ख़ुश हैं सब
अन्दर से है टूटे बाहर ख़ुश हैं सब

देख लो अपनी प्यास छुपाने का अंजाम
बोल रहा है एक समन्दर ख़ुश हैं सब

ज़ख़्मों से दुख दर्द से लेना देना क्या
तोड़ के शीशा मार के पत्थर ख़ुश हैं सब

बाहर बाहर दुख मेरी बर्बादी का
मुझे पता है अन्दर अन्दर ख़ुश हैं सब

टूटी खटिया,बिस्तर, कपड़े कौन रखे
बांट के अपनी माँ के ज़ेवर ख़ुश हैं सब - राज़िक़ अंसारी

Roman

batlate hai sare manzar khush hai sab
andar se hai tute bahar khush hai sab

dekh lo apni pyas chhupane ak anjam
bol raha hai ek samndar khush hai sab

jakhmo se dukh dard se lena dena kya
tod ke shisha maar ke patthar khush hai sab

bahar bahar dukh meri barbadi ka
mujhe pata hai andar andar khush hai sab

tuti khatiya, bistar, kapde koun rakhe
baant ke apni maa ke zevar khush hai sab - Razique Ansari

Post a Comment

 
Top