0
तुम अपनी खुदनुमाई की शौहरत के चाव में।
डालो न अपने हाथ को जलते अलाव में।।

लहजा भी भूल बैठा है वो गुफ्तुगू का अब।
लगता है जी रहा है वो भारी तनाव में।।

फाँसी का फन्दा चूम लिया बेकुसूर ने।
उसने बयान बदला है आकर दबाव में।।

हो कर शिकार वो तो तशद्दुद का मर गया।
आया न आगे कोई भी उसके बचाव में।।

चक्कर लगा रहा है मेरे घर के रात दिन।
लगता है हो रहा है खड़ा वो चुनाव में।।

नाज़ुक बहुत है दिल मेरा रखना संभाल कर।
शीशा न टूट जाये कहीं रख रखाव में।।

करते हैं काम खूब हसीनो के अश्क़ भी।
बह जाते अच्छे अच्छे हैं इनके बहाव में।।

जब जब "फ़िगार" उसको सुनाया है हाले दिल।
तब तब छिड़क दिया है नमक उसने घाव में।। - रईस फिगार

Roman

Tum apni khudnumai ki shouharat ki chaav me
dalo n apne hath ko jalte alaav me

laza bhi bhool baitha hai wo guftgu ka ab
lagta hai ji raha hai wo bhari tanav me

faansi ka fanda choom liya beksoor ne
usne bayan badla hai aakar dabaaw me

ho kar shikar wo tashddud ka mar gaya
aaya n aage koi bhi uske bachav me

chakkar laga rha hai mere ghar ke raat din
lagata hai ho raha hai khada wo chunaav me

najuk bahut hai dil mera rakhna sambhal kar
sheesha n tut jaye kahi rakh rakhaav me

karte hai kaam khoob haseeno ke ashq bhi
bah jate achche achche hai inke bahav me

jab jab "Figaar" usko sunaya hai haale dil
tab tab chhidak diya hai namak usne ghaav me - Rayees Figaar

Post a Comment

 
Top