0
मत पूछो कितना गमगीं हूँ गंगा जी और जमुना जी
ज्यादा मै तुमको याद नहीं हूँ गंगा जी और जमुना जी

अपने किनारों से कह दीजो आंसू तुमको रोते है
अब मै अपना सोग-नशीं हू गंगा जी और जमुना जी

मै जो बगुला बन कर बिखरा वक्त की पागल आंधी में
ज्यादा मै तुम्हारी लहर नहीं हूँ गंगा जी और जमुना जी

अब तो यहाँ के मौसम मुझसे ऐसी उम्मीदे रखते है
जैसे हमेशा से मै यही हूँ गंगा जी और जमुना जी

अमरोहे मे बान नदी के पास जो लड़का रहता था
अब वो कहाँ है? मै तो वही हूँ गंगा जी और जमुना जी - जाँन एलिया

Roman

mat puchho kitna gamgeen hun ganga ji aur jamuna ji
jyada mai tumko yaad nahi hun ganga ji aur jamuna ji

apne kinaro se kah deejo aansu tumko rote hai
ab mai apna sog-nasheen hun ganga ji aur jamuna ji

mai jo bagula ban kar bikhra waqt ki pagal aandhi me
jyada mai tumhari lahar nahi hun ganga ji aur jamuna ji

ab to yahaan ke mousam mujhse aisi ummide rakhte hai
jaise hamesha se mai yahi hun ganga ji aur jamuna ji

amrohe me baan nadi ke paas jo ladka rahta tha
ab wo kahan hai? mai to wahi hun ganga ji aur jamuna ji - Jaan Eliya

Post a Comment

 
Top