0
Samjhata hu mai sab kuch sirf samjhana nahi aata

समझता हूँ मैं सब कुछ सिर्फ़ समझाना नहीं आता
तड़पता हूँ मगर औरों को तड़पाना नहीं आता

ये जमुना की हसीं आवाज क्यूँ अर्गन बजाती हैं
मुझे गाना नहीं आता मुझे गाना नहीं आता

ये मेरी ज़ीस्त ख़ुद इक मुस्तक़िल तूफ़ान है 'अख़्तर'
मुझे इन ग़म के तूफ़ानों से घबराना नहीं आता- अख्तर अंसारी

Roman

Samjhata hu mai sab kuch sirf samjhana nahi aata
tadpata hu magar auro ko tadpana nahi aata

ye jamuna ki haseen aawaz kyu organ bajati hai
mujhe gana nahi aata mujhe gana nahi aata

ye meri zist khud ik mustkil tufaan hai "Akhtar"
mujhe in gham ke tufano se ghabrana nahi aata - Akhtar Ansari

Post a Comment

 
Top