0
अब तो ये भी नही रहा अहसास - जिगर मुरादाबादी
अब तो ये भी नहीं रहा एहसास
दर्द होता है या नहीं होता

इश्क़ जब तक न कर चुके रुस्वा
आदमी काम का नहीं होता

टूट पड़ता है दफ़अ'तन जो इश्क़
बेश-तर देर-पा नहीं होता

वो भी होता है एक वक़्त कि जब
मा-सिवा मा-सिवा नहीं होता

हाए क्या हो गया तबीअ'त को
ग़म भी राहत-फ़ज़ा नहीं होता

दिल हमारा है या तुम्हारा है
हम से ये फ़ैसला नहीं होता

जिस पे तेरी नज़र नहीं होती
उस की जानिब ख़ुदा नहीं होता

मैं कि बे-ज़ार उम्र भर के लिए
दिल कि दम-भर जुदा नहीं होता

वो हमारे क़रीब होते हैं
जब हमारा पता नहीं होता

दिल को क्या क्या सुकून होता है
जब कोई आसरा नहीं होता

हो के इक बार सामना उन से
फिर कभी सामना नहीं होता -जिगर मुरादाबादी

Roman

ab to ye bhi nahi raha ehsas
dard hota hai ya nahi hota

ishq jab tak n kar chuke ruswa
aadmi kam ka nahi hota

tut padta hai dafaatan jo ishq
besh-tar der-pa nahi hota

wo bhi hota hai ek waqt ki jab
ma-siwa maa-siwa nahi hota

haye kya ho gya tabiyat ko
gham bhi rahat-faza nahi hota

dil hamara hai ya tumhara hai
ham se ye faisla nahi hota

jis pe teri nazar nahi hoti
us ki zanib khuda nahi hota

mai ki be-zar umr bhar ke liye
dil ki dam-bhar juda nahi hota

wo hamare kareeb hote hai
jab hamara pata nahi hota

dil ko kya kya sukoon hota hai
jab koi dusra aasra nahi hota

ho ke ek baar samna un se
phir kabhi samna nahi hota - Jigar Moradabadi

Post a Comment

 
Top